Is the indian comic book industry growing or barely surviving

Would we like to see the comic book industry grow or just survive a bit longer?

The introduction

A fading entertainment industry since the 2000s, comic books have finally begun to breathe new life into it. Are we seeing a resurgence? It would be premature to say so, but Indian comics have gained popularity in recent years. There are several reasons for this, including the rapid influx of new publishers. It has given hope to avid comic book readers and has also injected interest among the readers; there are now people of all ages reading comic books and collecting them.

Why did Indian comic book readership decline?

In India, comic books have always been associated with kids. My parents and all the people I saw growing up, it was only kids who took an interest in comics. And even now, as an adult, when I read vintage comic books, I don’t think I can pick one and suggest it to someone who loves reading books but could fall in love with comics too. Who is to blame for this? Publishers, digitalization, exposure to TV media, or someone else—there are many thoughts that have crossed my mind since 2018 when I resumed reading comic books after a 16-year hiatus. I have been part of several comic groups where this has been the hottest topic several times. Why couldn’t the comics rise again? Why couldn’t it reach the masses again?

The first obvious reason was the impact of TV. The sales started declining with the arrival of television and got worse with each passing year as computers, video games, and smartphones became more popular modes of entertainment for kids.

The scenario wasn’t different with western comics either, as Marvel and DC were barely surviving, and Marvel went on the verge of bankruptcy too. But breaking into movies helped them survive as a comic book publication as well.

What is the problem solver?

When you see the two things separately (movies and comics), western comics aren’t doing that great even after getting popularity from their cinematic universe. In fact, manga sales have just outperformed American comics recently in the United States.

So the question of how manga outperforms American comics arises. Nowadays, Marvel is everywhere. In this way, we can see our beloved superhero once every quarter of a year and in a web series in the meantime. On the other hand, manga sales are backed by only anime, which doesn’t have the same reach and same amount of audience if we can ignore the recent surge of anime movies being widely released on the silver screen.

Enough with the questions and doubts! right? The answer is plain and simple: Mangas are better. The answer might not be to your acceptance if you haven’t read manga or watched anime a lot. But one who has been a fan of both comic books and manga can say this even if they don’t know the reason.

How is Manga different?

It was 2001 when Dragon Ball Z first aired in India. The buzz of the show among the kids was such that it became an instant hit and the favorite show of all the kids at that time. After a couple of years, the Pokémon world made a separate fan base in India. The same can be said for other anime shows such as Bay Blade, Naruto, One Piece, and others. And if you think that’s it, you are wrong! That’s the most beautiful thing about manga and anime. They have always come up with a new story that gets a hit among the younger generation of that time. It was Dragon Ball Z, Naruto, and One Piece in the 2000s. In the 2010s, Death Note, Hunter x Hunter, and Full Metal Alchemist were popular, followed by Attack on Titans, My Hero Academia, One Punch Man in the 2015s, and Demon Slayer in the 2020s. They have always come up with something that has become a bridge between the younger and older generations. They never ignored the younger generation and didn’t make the mistake like Western and Indian comics to cash in on the cards of nostalgia for the 90s kids. I was born in 1988 and count myself as an avid comic book reader today. Yes, I was buying the vintage comics, but stopped buying them soon when I realized that am only buying them but not reading them at the same rate. I can buy the same comic with different covers as many times as a publisher wants, but would that help us get better? Yes, it will fill up the pockets of a publisher, but it won’t help us reach new readers.

A new comic book about your favorite superhero that you have been reading for the past 30 years might not have the same impact on a new comic book reader. And even if it could, this young reader would have to read hundreds of comic books to enjoy it as much as you do. This is a big issue. I won’t hesitate in saying that if you could find even a few hundred readers who would have such patience in modern times.

Is nostalgia killing the comic book world or helping it grow?

It would be too harsh to say it is killing the comic world, but I think it isn’t helping it grow either. The biggest flaw of American and Indian comic books is that their worlds and characters never progress, and when they do, they come back to their roots again with a reboot. On the other hand, the manga is written in a way that its world progresses in one direction. The characters evolve, they lose their dear ones once and for all, and there is a definite end, even if it comes after several years. Manga readers love this. And this is their USP. They do not rely on a person to cash them endlessly.

Although I haven’t read a lot of manga, I have watched hundreds of anime. And the essence of both anime and manga is the same. One of the other prime factors of their success is the wide range of genres they cover. They have manga for kids, adults, and for teenagers. They have manga on sports such as soccer, basketball, etc.; hobbies such as singing, dancing, etc.; history; action; academics; and what not.

I hope you can see the big picture here. The manga industry looks like a huge literary library. One can choose manga based on their favorite genre, unlike western and Indian comics where the primary focus is always the superhero genre.

It is not that Indian comic books aren’t exciting. Nostalgia pays off for the 90s or older generation, but if this is being seen as the rise of Indian comics, then you are wrong.

The Rise of the New Age of Indian Comic Books

The new age publishers are coming in, which excites me more, and I think they can only help us revive the comic book industry. The New Age comic books are exciting and comprehensive, with something for everyone.

The comic book sales in India aren’t as exciting as the sales of western comics, but with the introduction of more than a dozen new comic book publishers in the last year, the future looks exciting. The OTT market is exciting, and the recent news that Yali’s the Village has been picked up for an Amazon web series is icing on the cake for the Indian comic community. Comics are the cheapest way to get your IP published and recognized. Breaking into any OTT platform can raise enough capital for a comic book publisher to get going and make the comic book industry grow more.

There are a number of factors that the new age of comic books is doing in the right manner. First, availing the comic books in Hindi and English both, makes them more accessible to a wider audience. Second, these comics are often rooted in Indian mythology and culture, which makes them more relatable to Indian readers. Third, the quality of Indian comics has immensely improved in recent years, which is the need of the hour because, nowadays, readers are exposed to international content more than ever.

So if you’re looking for something new to read, be sure to check out the latest Indian comic books. Thanks to the growing comic culture in India, I would like to mention some of the exciting comic book publishers you should check out.

This is an exciting time for Indian comics. The industry is growing and evolving, and it’s attracting a lot of attention both at home and abroad. If you’re interested in learning more about Indian comics, you should join some of the best Indian comic Facebook groups. The following are my recommendations.

There are fascinating comic book stores as well that comes with great deals every now and then. Buy comic books online from these trusted sources. You can go with any one of them.

  • Comics Adda
  • Uma Cart
  • Comic Haveli
  • Comic Mafia
  • Hind comics
  • JH Comics

Do you Count yourself as a True Comic Fan?

Give us a chance then
Indian teenage superhero

सतयुग – अब तक का सफर

आलोक, हड्डी और सुदीप मेनन

सतयुग जिनका मूल नाम आलोक और हड्डी रखा गया था की कहानी मैंने 2020 अक्टूबर में लिखनी शुरू की। कहानी तो पूरी थी लेकिन इसकी स्क्रिप्ट मैं खुद लिखना चाहता था। जब तक में खुद स्क्रिप्ट पर काम कर रहा था उस दौरान मैंने एक विचार और कल्पना सुदीप जी को के समक्ष रखी जो इन्कॉग्निटो के लिए थी और उस पर काम शुरू हो गया।  कुछ महीने आलोक और हड्डी स्क्रिप्ट पर काम करने के बाद जब मुझे महसूस हुआ की शायद मैं अपनी कहानी के साथ पूरी तरह न्याय नहीं कर पाऊंगा तब मैंने सुदीप जी से फिर मदद मांगी और उन्होंने कहानी पर स्क्रिप्ट लिखना मंजूर तो किआ लेकिन वो इसका स्वरुप थोड़ा बदलना चाहते थे। सबसे पहला बदलाव हुआ सत्या की कहानी में। जिसको सुदीप जी ने थोड़ा मास्स अपील वाली कहानी में बदला।  मेरे द्वारा सत्या के साथ बताई दुर्घटना काफी डार्क थी। जिस से शायद सभी को जुड़ाव महसूस करना मुश्किल हो जाता।  इसके बारे में फिर किसी दिन बात करेंगे। 

आपके सामने पेश की गई सतयुग में शुरुआत और अंत तो सामान है लेकिन युग के साथ हुई दुर्घटना की कहानी अलग।

दूसरा बदलाव हुआ किरदारों के नामो पर क्यूंकि इनके नामों पर भी कुछ ज्यादा दिमाग नहीं दौड़ाया गया था। और फिर कुछ नामो पर विचार विमर्श के बाद आलोक और हड्डी बन गए सत्या और युग। 

अस्वीकृत आलोक डिज़ाइन
अस्वीकृत हड्डी डिज़ाइन
अस्वीकृत प्रीतम डबराल डिज़ाइन

करैक्टर डिज़ाइन

सुदीप जी के कहानी लिखने के बाद हम चित्रकार की खोज में लग गए।  रवि जी से बात चित के बाद मुझे पता लगा की करैक्टर डिज़ाइन कैसे करवाया जाए तो उन्होंने बताया की विदेशी कलाकार कॉमिक बुक ड्रा करने के साथ साथ ही करैक्टर डिज़ाइन भी कर देते है। ये सुझाव उन्होंने मुझे इन्कॉग्निटो पर काम शुरू होने से पहले ही दे दिया था।  लेकिन फिर भी इन सब में कोई पिछला अनुभव न होने की वजह से मैंने एक दो करैक्टर डिज़ाइन करवाए लेकिन वो किसी कारणवश बीच में ही अटक गए।

अस्वीकृत टेस्ट पेज

बाद में ये समझ भी और अच्छे से आ गई की करैक्टर डिज़ाइन के लिए बहुत ज्यादा निष्ठा की जरूरत होती है। और कोई भी चित्रकार जो केवल करैक्टर डिज़ाइन पर काम कर रहा है शायद किरदारों के साथ पूरी तरह वैसा न्याय ना कर पाए जैसा वो चित्रकार जो पूरी कॉमिक बुक पर काम कर रहा है। 

कायो पेगाडो

इसके बाद फिर सिलसिला शुरू हुआ आर्टिस्ट ढूंढ़ने का।  कायो पेगादो तक पहुँचने से पहले हमने दो और विदेशी कलाकारों से टेस्ट पेजेज करवाए। हमारे मानदंडों में सबसे एहम तो आर्टवर्क था ही लेकिन एक बजट सीमा भी थी जिस से ऊपर जाना हमारे लिए मुमकिन नहीं था।  इसलिए विकल्प भी कम थे।  और ये बात देसी और विदेशी दोनों चित्रकारों पर होती है। 

कायो पेगाडो द्वारा भेजा गया पहला थंबनेल्ज़

जून 2021 में हमें आखिरकार हमारी खोज ले कर आई कायो पेगादो तक जिनके बनाये 3 ट्रायल पेजेज के थंबनेल्ज़ देखने पर ही रवि जी ने अपनी हामी भर दी। रवि जी को अपनी टीम में जोड़ने का कारण यही था ताकि वो शुरू से ही मुझे सही फैसले लेने में मदद कर सके। मुझे अभी भी साफ़ साफ़ याद है की मुझे कोई आईडिया नहीं था की आर्टिस्ट को किस तरह परखा जाए। थंबनेल्ज़ क्या होते है और उनमें क्या देख के ये फैसला किया जाए की आर्टिस्ट से किस तरह के काम की अपेक्षा की जाए।

कहते है की अगर आपको किसी काम की कम समझ हो तो आपको अपने से ज्यादा अनुभवी लोगो पर ही भरोसा करना चाहिए और स्वयंभू के शुरूआती समय में मैंने आँख मूँद के वही किआ। और कॉमिक बनाने की प्रक्रिया को समझने में ज्यादा समय लगाया। 

आपको ये बताना तो भूल गया की जब मैंने सुदीप जी द्वारा स्क्रिप्ट पहली बार पढ़ी तो इस बात की बहुत ख़ुशी हुई की मैंने अपनी ज़िद्द को पीछे रख कर सुदीप जी को सतयुग लिखने में जो स्वाधीनता दी वो कितना सही फैसला था। 

सतयुग अंक १ से एक पेज

इसी दौरान संतोष पिल्लेवार जी ने सतयुग अंक 1 में रंग भरने की कमाल संभाली और काफी अच्छा काम किआ।  सतयुग अंक 1 2021 के अगस्त महीने में प्रकाशित हुआ।  सतयुग अंक 1 सभी के समक्ष आ चूका था लेकिन इसके बाद क्या करना है उस पर चर्चा इस से भी पहले शुरू हो चुकी थी। 

सतयुग – कलयुग का सुपरहीरो

सतयुग की कहानी को किस दिशा में ले जाना है इसके लिए में पूरी तरह से स्पष्ट था।  मैं सतयुग के हर अंक के साथ समाज में हो रहे कुकर्म और अपराधों पर प्रकाश डालने के साथ साथ ये सोच सामने रखना चाहता था की हमें अपने आस पास के समाज से ज्यादा डरने की जरुरत है।  और साथ साथ सतयुग को एक सुपरहीरो के रूप में भी स्थापित करना था। 

कलयुग में एक सुपरहीरो का नाम सतयुग होना और उसके द्वारा जिस ढंग से आत्माओ को देखना और उनको इन्साफ दिलाने का विषय श्रृंखला के लिए पूरी तरह काम कर रहा था। सुदीप जी सतयुग को सुपरहीरो बनाने के पक्ष में नहीं थे। वैसे सुदीप जी किसी भी बात पर आसानी से सहमत होते नहीं है।  लेकिन कुछ आइडियाज शुरू से ही मैंने ऐसे रखे जिनको लेकर मैं भी कोई समझौता नहीं करना चाहता था। 

सतयुग २ – केस ऑफ़ नेक्रोफिलिआ

सतयुग अंक 2 के लिए सुदीप जी को जब मैंने अगले सतयुग केस में नेक्रोफिलिआ से जुडी कहानी बताई तो उन्होंने एक बार के लिए संकोच किआ और मुझसे पूछा की क्या मैं सच में ऐसा कुछ दिखाना चाहता हूँ।  तो मैं नि संकोच  इस पर काम करने के लिए उन्हें कह दिए।  मेरे अनुसार अब कुछ भी हमारी सोसाइटी से छुपा नहीं है। हमें प्रतिदिन कुछ न कुछ ऐसा देखने या सुन ने को मिल जाता है जो इंसान और हैवान के अंतर को मिटाता चला जा रहा है।  ऐसे विषयों पर खुल के बात करना अब पहले से भी ज्यादा जरुरी होता जा रहा है। 

सुपरहीरो बनाने की प्रक्रिया

कायो को सतयुग के कस्टम डिज़ाइन के लिए सरल दिशा निर्देश थे की जितना हो सके कॉस्टूयम को सरल रखा जाए। इसके पीछे का कारण था की हम सतयुग किरदार को इस तरह से आगे बढ़ाए की किसी भी तरह वो जल्दबाज़ी में किआ हुआ प्रयोग न लगे। कायो ने बखूभी वैसा ही काम किआ लेकिन इस पोशाक में चार चाँद लगाए रेनेन लेनो ने जिनके द्वारा किये हुए रंग ने मानो प्यासे को कुँए से मिला दिया हो।  एक कॉमिक किरदार को सोचना, उसमे जीवन भरना और फिर उसको ऐसे सुपरहीरो किरदार में बदलना की वो अलग भी लगे और लोगो का ध्यान भी अपनी और खिंच पाए, सच मानिये ये बहुत ही मुश्किल और नाजुक प्रक्रिया होती है। 

सुदीप जी ने अंक 2 के साथ सतयुग की दुनिया को एक नया मोड़ दिया है।  जो की सतयुग श्रृंखला को एक नया जीवनदान देता है और लोगो में अगले अंक के लिए और रूचि जगाता है। 

सतयुग की दुनिया का विस्तार

सतयुग को कुछ इस तरह से लिखा गया था की कल अगर हमें इस पर कोई टीवी सीरीज या मूवी भी बनाने का सोचना हो तो इसे आसानी से और कम लागत के साथ किआ जा सके। लेकिन अगर केवल यही सोच के एक के बाद एक अंक निकालते रहे तो कॉमिक पढ़ने वाले पाठको के लिए शायद ये वो मुकाम नहीं छू पाती।  पारलौकिक और आलोकिक शक्तियों से सतयुग की दुनिया को जोड़ने के बाद हमें उम्मीद है ये श्रृंखला पाठको के बीच और सराही जाएगी और उतनी ही पसंद की जाएगी जितनी इन्कॉग्निटो श्रृंखला को किया जा रहा है।

सतयुग श्रृंखला के साथ जुड़े विचारों को ब्यान करता यह गाना जरूर सुनिए। उजाड़ने Root से झूठ के पेड़ को, आये हैं युग और सत्या।

सतयुग श्रृंखला में आने वाले अंकों में आप सतयुग की दुनिया को और बड़ा स्वरुप लेते देखेंगे। इसी के साथ साथ हम ये भी कोशिश करेंगे की पाठको को युगांत कपूर को जान ने का और मौका मिले। 

9
सतयुग श्रृंखला को कितने स्टार्स देना चाहेंगे?

सतयुग 3

सुदीप जी और कायो पेगाडो की जोड़ी सतयुग 3 लगभग त्यार कर चुके है।  अगर सब सही रहा तो जनवरी तक सतयुग 3 आप लोगो तक पहुँच जाएगी।  सतयुग श्रृंखला को अपना ऐसा ही प्यार देते रहिये ताकि हम और गति से इस पर काम कर सके और स्वयंभू वर्स को जल्दी जल्दी एक बड़ा स्वरुप दे सके। 

जाते जाते आप लोगो के लिए एक छोटा सा टीज़र सतयुग 3 से।